07
Jun
10

घर-एक मंदिर

आज दिल में अजीब सा दर्द हुआ,

किस बात ने दिल को इतना अंदर से छुआ ?

था यह घर से दूर जाने का डर,

जिस घर में  रहते है मेरे भगवान अंदर !

अब उनके क्या चर्चे सुनाए,

आप सबको क्यूँ जलाए ?

वो है मेरे माता पिता,

जिन्हें मानता  हूँ  मैं अपना खुदा !

उनके संघर्ष के महल के सामने,

मेरा संघर्ष तो महज़ एक पान की दुकान तक ना था !

उनकी कुर्बानियों के सामने,

मेरी कुर्बानी, कुर्बानी ना रही !

उनके प्यार और संस्कार ने बना दिया मुझे काबिल,

समंदर से भी बड़ा है उनका दिल !

मुझे सफल इंसान बनाना था उनका सपना,

जो अब है लगता मुझे अपना अपना !

उनके दो बूँद आसूँ भी चुभते है दिल को,

इसलिए डरता है दिल घर छोड़कर जाने को !

मेरा वो हर दिन सफल है ऐ मौला,

जिस जिस दिन मैंने उनकी ख़ुशी को है तोला !

Advertisements

4 Responses to “घर-एक मंदिर”


  1. June 7, 2010 at 7:20 am

    I got to know that poetry is best way of saying some thing from our heart to public.
    I think this is better then saying in simple way,
    Best of luck Mr. Anmol !
    You are really priceless man !

  2. 2 dishu
    June 7, 2010 at 12:42 pm

    bhai…
    aap to kaafi aacha

    likhte ho…
    touching tha..

  3. 3 Akshat
    June 7, 2010 at 12:56 pm

    Really awesome..very touching..nice anmol bhai..keep it up

  4. 4 pankaj
    June 8, 2010 at 3:38 am

    kya baat h anmol kavi ………
    u r great …………


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 6 other followers


%d bloggers like this: